रविवार, 7 जुलाई 2013

मेरे सपनों का भारत

आओ सुनो तुम्हे बताऊँ 

कैसा मेरा हिन्दुस्तान हो


जो है मेरे सपनों का भारत


वो कैसे फिर से महान हो।

धर्म सारे फले फूले


इंसान में भगवान हो


मस्जिद में राम की पूजा


और मंदिर में रहमान हो।


ऐसा मेरा हिन्दुस्तान हो।

बच्चे बूढे सब पढें


सब को आखर ज्ञान हो


हर व्यक्ति के पास रोटी,


कपड़ा और मकान हो।


ऐसा मेरा हिन्दुस्तान हो।

भ्रष्टाचार का नाम ना हो


और ना आंतकवादी शैतान हो


सारे नेता शरीफ बने


और मेहनती किसान हो।


ऐसा मेरा हिन्दुस्तान हो ।

हिन्दी चीनी भाई भाई


दोस्त जैसा पाकिस्तान हो


ना किसी से दुश्मनी रहे


भारत फिर से महान हो।


ऐसा मेरा हिन्दुस्तान हो।

सिक्ख ईसाई साथ रहे


साथ हिन्दु मुसलमान हो


मस्जिद में आरती और


मंदिर में अजान हो।


ऐसा मेरा हिन्दुस्तान हो।

झण्डा ऊँचा रहे हमारा


अलग तिरंगे की शान हो


भारत विश्व गुरू बने


कदमों में सारा जहान हो।


ऐसा मेरा हिन्दुस्तान हो।

चारों और खुशियां ही खुशियां


खुश मजदूर और किसान हो


ऐसा मेरा हिन्दुस्तान हो।


ऐसा मेरा हिन्दुस्तान हो।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Twitter Bird Gadget